Wednesday, 6 March 2013

Haseena

Posted by Stop Acid Attacks On Wednesday, March 06, 2013


Haseena was just 19 when she was struck by acid. This incident took place on 22nd april 1999 when her boss attacked her with acid.

After completing her B.Com., Haseena was working with the Sneha software company in Bengaluru. During those days, the company was running in losses. Hence, she left the job and searched for another. This annoyed her boss and he started to force Haseena to leave her new job and to work for his company from home. But Haseena kept denying.

One day when haseena was on her way to her new office, her boss stopped and threatened with the bottle of acid in his hand. Haseena still did not change her decision. Annoyed by his failing attempts, he immideately spilled the bottle of acid on her face, saying, “ab dekhta hu ki kaise tum kisi aur ke computer pe kaam karti ho..” (“now i’ll see how you work on someone else’s computer”)

The acid burnt 64% of her body from head till toe. She was immideatley take to the nearest hospital where they recommended her to MS Ramaya Hospital. There before even treating her, they demanded for 1 lakh rupees for the treatment.

Later she was taken to Victoria government hospital, where she was kept untreated for the next 2 days. Once when haseena was in acute pain, her mother asked the nurse to check her but the nurse demanded for money to check the condition of her daughter. Haseena’s fther was into armed forces hence was out of town. When he returned after twp days, he was asked to take haseena to some other hospital.

Haseena had undergone 13 surgeries in the next 8 months and there were other surgeries waiting. Till then haseena’s family had already spent 9 lakh rupees and their house was also sold.
Her boss was finally arrested and was sentenced to 5 years and 2 months of imprisonment. But he was set free right after 2 months of imprisonment. Haseena rose her voice against it, which compelled the government to increase his punishment to 14 years of imprisonment.

The justice that haseena got from the action of the government encouraged her to fight for other the victims of acid attacks. She is now associated with many NGOs and has filed a PIL which was finally categorised under Attempt To Murder.



हिंदी

हसीना 

फिर एक दिन जब हसीना अपने ऑफिस जा रही थी, उसी समय उसकी पुरानी कम्पनी का मालिक अपने हाथ में करीब दो लिटर तेज़ाब से भरा जग लाया और उसे नौकरी छोड़ने के लिए डराने लगा. लेकिन एक फिर हसीना के मना करने पर उसने तेज़ाब से भरा जग उसके उपर यह कहते हुए फ़ेंक दिया कि “अब देखता हूँ कि कैसे तुम किसी और के कम्पुटर पर काम करती हो"

हसीना हुसैन उस समय सिर्फ 19 साल की थी जब उन पर तेज़ाब फेंका गया था. यह घटना 22 अप्रैल 1999 की है, जब इन पर इनके बॉस ने इन पर तेज़ाब फेंका था. 

बी कॉम की पढ़ाई करने के बाद और उसके साथ कंप्यूटर की पढ़ाई पूरी करने के बाद हसीना बंगलुरु की नेहा  सॉफ्टवेयर कम्पनी में काम कर रही थी. उस दौरान कम्पनी घाटे में चल रही थी. जिस वजह से उसने कम्पनी की नौकरी छोड़कर दूसरी जॉब ढूंड ली. जिस पर कम्पनी का मालिक जोसफ रोद्रिग्युज़ भड़क गया. वह हसीना पर अपनी जॉब छोड़ने और घर से ही उसकी कम्पनी के लिए काम करने का दबाव डालने लगा. लेकिन हसीना नहीं मानी.

फिर एक दिन जब हसीना अपने ऑफिस जा रही थी, उसी समय उसकी पुरानी कम्पनी का मालिक अपने हाथ में करीब दो लिटर तेज़ाब से भरा जग लाया और उसे नौकरी छोड़ने के लिए डराने लगा. लेकिन एक फिर हसीना के मना करने पर उसने तेज़ाब से भरा जग उसके उपर यह कहते हुए फ़ेंक दिया कि “अब देखता हूँ कि कैसे तुम किसी और के कम्पुटर पर काम करती हो.

तेज़ाब से हसीना का सिर, से लेकर पैरों तक झुलस चुका था. लगभग 64 प्रतिशत शरीर जल चुका था. उसे नजदीक के ही अस्पताल ले जाया गया, जहां से उसे एमएस रमैया अस्पताल भेज दिया गया. जहां सिर्फ उसकी आँखे और झुलसे हुए दुसरे हिस्सों की सफाई की और यह कहते हुए ट्रीटमेंट रोक दिया कि पहले एक लाख रुपए जमा कराओ, फिर इलाज शुरू होगा.

जिसके बाद उन्हें विक्टोरिया सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां उसे पहले दो दिनों तक बिना इलाज के ही रखा गया. जब एक रात हसीना का दर्द बढ़ा तो उनकी माँ ने जब ड्यूटी नर्स से हसीना को देखने का रिक्वेस्ट किया तो उसके बदले उनसे पैसों की मांग की. उनके पिता आर्म्डफ़ोर्स में होने कि वजह से काम से बाहर थे और जब दो दिन बाद लौटे तो हसीना ने उन्हें किसी और अस्पताल ले जाने के लिए कहा. 

जिसके बाद अगले आठ माह के दौरान हसीना की 13 सर्जरी हो चुकी थी, और आग भी कई सर्जरी होनी बाकि थी. तब तक हसीना का परिवार 9 लाख रुपए खर्च हो चुके थे, और घर भी बिक चुका था. 

हसीना को उसके बाद करीब पांच साल केस चलने के बाद आरोपी जोसेफ को पांच साल दो महीने की सजा मिली. लेकिन दो महीने बाद ही उसे जमानत भी मिल गयी. जिसके खिलाफ हसीना हाईकोर्ट गयी. जहां दो  साल बाद आरोपी जोसेफ को 14 साल की कैद की सजा सुनाई गयी. बाद में जोसेफ ने फिर जमानत की अर्जी दाखिल की थी, लेकिन अदालत ने न मंजूर कर दिया.

अदालत से इन्साफ मिलने के बाद हसीना कई एनजीओ के साथ जुड़ गयी और एसिड अटैक से पीड़ित महिलाओं के लिए लड़ने लगी. जिसके बाद उनके द्वारा डाली गयी पीआईएल पर अदालत ने फैसला सुनाते हुए, एसिड अटैक को अटैम्पट टू मर्डर की श्रेणी में डाल दिया.

Chhanv

    About Us

    SAA is a campaign against acid violence. We work as a bridge between survivors and the society, as most of the victims of this brutal crime, which is much more grave in its impact than a rape, have isolated themselves after losing their face. Due to ignorance of the government and civil society, most survivors find no hope and stay like an outcast, in solitude. SAA aims to research and track acid attack cases and compile a data to get the actual situation of survivors.

    Our Mission

    We work with partners and stakeholders towards elimination of acid and other forms of burn violence and protection of survivors' rights. The process of justice to an acid attack victim remains incomplete until she gets immediate medical, legal and economic help, along with the critical social acceptance. Our vision is to free India from this crime, which reflects the flaws of our patriarchal society and abusive attitudes. We want survivors to have access to fast justice and fight back the irreparable impact of this crime.

    Support Us

    Any amount you can donate to us, no matter how small, will be very gratefully received and put to good use helping acid and burns violence survivors. Your help could help pay for dressings and medical supplies for recuperating patients. A small help could help survivors with vital physical rehabilitation after an attack, including physical therapy and nursing.

    Click this link to donate for a good cause.

    Join Us

    We welcome all the volunteers to come forward and join us in our camping and contribute in whatever way possible. Please visit the Join Us page for more details.