Thursday, 7 March 2013

press invitation - 8 march

Posted by Stop Acid Attacks On Thursday, March 07, 2013

PRESS INVITATION

Dialogue on Acid Attacks on women in India and launch of www.stopacidattacks.org portal

On the occasion of International Women’s Day we are organizing a dialogue on the issue of Acid Attacks on Women in India. We are also inaugurating our website www.stopacidattacks.org which will be totally dedicated towards the cause of these women. We will also be joined by a delegation of 18 people from Chennai who will reach us on motor bikes to register their protest against Gender Based Violence in Tamil Nadu.

Acid Attack survivors who lose their faces start isolating themselves from the society. Due to lack of support policies from the government’s side, these victims often face depression which, sometimes, leads to suicide. The expensive legal and medical treatment required is commonly not affordable even for middle class families. It’s surprising that the government has not taken any step to improve living condition of Acid Attack survivors  To research this issue, foster a dialogue, advocate for policy change and also to find potential donors we have started a web portal which will help connect Acid Attack survivors to people who can help. This way we will bypass the difficulties and costs involved in setting up an organization for them. Through the portal we hope to achieve two main purposes- highlight the plight of acid attack survivors and try to find them donors who can extend direct monetary assistance by contacting them through the website.

Speakers
Archana Kumar, an acid attack victim and human rights activist.
Manisha Kulshresthra is a young writer.
Kamlesh Jain is representing acid victims Anu in Supreme Court.
Manish Pandey is a journalist in India Today.
Geeta Shree is editor of Bindiya magazine.
Jayanti, a journalist with HT gtoup.


Aseem Trivedi, a political activist, cartoonist.

Vertika Nanda- Professor in Journalism, DU.

Suman Kesari Agrawal is an activist working with Kahap panchayats to minize honur killing.

Shehla Rashid Shora is an activist and moderating this seminar.

Alok Dixit is an activist and founder of Stop Acid Attacks campaign.

For more details: Call Ashish- 09899781309, 09958066951
                                                      
                                                       

हिंदी में 



एसिड अटैक्स विषय पर सेमिनार और www.stopacidattacks.org का उद्घाटन


पत्रकार बंधुओं,


अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर तेजाब हमले से पीड़ित महिलाओं की समस्याओं को समाज के विभिन्न वर्गों तक पहुचाने के लिये Stop Acid Attacks कैंपेन के अंतर्गत हम एक वेब-पोर्टल www.stopacidattacks.org की शुरूआत कर रहे हैं। साथ ही चेन्नई से इन्ही मुद्दों पर बाइक-रैली कर दिल्ली पहुचे सामाजिक कार्यकर्ताओं के अनुभव भी साझा करेंगे। 


आम तौर पर वे महिलाएं जिनपर तेजाब फेकर चेहरा खराब कर दिया जाता है, खुद को समाज से अलग कर लेती हैं। तेजाब पीड़िताओं पर सरकार की ओर से भी कोई पालिसी न होने के कारण, ये महिलाएं लंबे मेडिकल ट्रीटमेंट और न्यायिक प्रक्रिया से हताश होकर घरों में बैठ जाती हैं। आम तौर पर देखा गया है कि पीड़ित, मानसिक विकृतिओं का शिकार हो जाते हैं और कुछ समय बाद सभी से संपर्क तोड़ देते हैं। बलात्कार से भी ज्यादा घृणित और पीड़ादायक होने के बावजूद भारत सरकार और साथ ही सिविल सोसाइटी का इस मुद्दे पर ध्यान न दिया जाना आश्चर्यजनक ही है। हम Stop Acid Attacks अभियान के तहत न सिर्फ इन पीड़ितों के लिये समाज में आम सहमति बना रहे हैं बल्कि इन सर्वाइवर्स की जानकारी एकत्र कर उसे बेवसाइट पर अपलोड कर रहे हैं। स्टाप एसिड अटैक कैंपेन अपने इस अभियान के तहत तमाम वर्ग के लोगों को अपने साथ लेकर इन पीड़ितों के लिये हर संभव मदद जुटाने का प्रयास कर रहा है। अपनी वेबसाइट के माध्यम से हम मददगारों को जरूरतमदों तक पहुचाएंगे ताकि बिना किसी बिचौलिये के सही व्यक्ति तक सही मदद पहुंचे। हम कोई संस्था नहीं हैं और इससे संस्थागत खर्चों को भी बचाया जा सका है। आनलाइन माध्यमों को सही तरह इस्तेमाल कर हम एक बेहद प्रोफेशनल टीम की सहायता से इन पीड़ितों को समाज से जोड़ रहे हैं। इस कड़ी में 8 मार्च को एसिड अटैक विषय पर हमारी सेमिनार में आएं और इस मुद्दे से जुड़ी व्यावहारिक दिक्कतों को समाज तक पहुचाएं में हमारी मदद करें। 


वक्ता
अर्चना कुमारी
, एसिड सर्वाइवर और एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं।
मनीषा कुलश्रेष्ठ
, लेखिका हैं एवं महिलाओं से जुड़े विषयों पर लिखती हैं। 
कमलेश जैन
, सुप्रीम कोर्ट में वकील हैं और सर्वाइवर अनु मुखर्जी का केस लड़ रही हैं।
मनीषा पाण्डे, इंडिया टुडे में पत्रकार हैं।
गीता श्री
, मासिक पत्रिका बिंदिया की संपादक हैं।  
असीम त्रिवेदी
, कार्टूनिस्ट एवं सामाजिक कार्यकर्ता हैं।
जयंती
, एक वरिष्ठ पत्रकार हैं और इस समय हिन्दुस्तान अखबार में हैं।
वर्तिका नंदा
, दिल्ली विश्वविद्यालय में जर्नलिज्म विभाग की प्रोफेसर हैं। 
सुमन केसरी अग्रवाल एक्टिविस्ट हैं और खाप पंचायतों के साथ मिलकर ऑनर किलिंग को रोकने का काम करते हैं.
शैला राशिद- मानवाधिकार कार्यकर्ता हैं, डिबेट को माडरेट कर रही हैं.
आलोक दीक्षित, सामाजिक कार्यकर्ता और स्टाप एसिड अटैक कैंपेन के संस्थापक हैं।

सर्वाइवर स्पीच- अर्चना कुमारी (बुलंदशहर)
, अनु मुखर्जी (दिल्ली), प्रतिमा और भावना (मेरठ)।

डेलिगेशन
- चेन्नई से लोगों का एक डेलीगेशन जो कि हमारे साथ इसे मुद्दे पर बाइक द्वारा चेन्नई से यहां तक की गई यात्रा कर पहुच रहा है। 
 कार्यक्रम-
1-  तेजाब हमले पर बनाई गई हमारी टीम की डाक्यूमेंट्री
2. तेजाब से हाल ही में मौत का शिकार हुईं विनोदिनी और दिव्या के लिये दो मिनट का मौन।
3- परिचय और रूपरेखा- शैला राशिद।
4- रूबरू- फाइटर्स (सर्वाइवर्स) से उनकी आपबीती। 
5- गिटार पर सुमित पारिक की पर्फामेंस।
6- पैनल के विचार।

7- अक्षय विश्वास व उनके ग्रुप द्वारा फाइटर्स को एक आर्टिस्टिस्टिक नमन।
8- डाक्यूमेंट्री शो- सेविंग फेसेस।

2-  अधिक जानकारी के लिये संपर्क करें। आशीष- 09899781309, 09958066951
                                                            
















  

Chhanv

    About Us

    SAA is a campaign against acid violence. We work as a bridge between survivors and the society, as most of the victims of this brutal crime, which is much more grave in its impact than a rape, have isolated themselves after losing their face. Due to ignorance of the government and civil society, most survivors find no hope and stay like an outcast, in solitude. SAA aims to research and track acid attack cases and compile a data to get the actual situation of survivors.

    Our Mission

    We work with partners and stakeholders towards elimination of acid and other forms of burn violence and protection of survivors' rights. The process of justice to an acid attack victim remains incomplete until she gets immediate medical, legal and economic help, along with the critical social acceptance. Our vision is to free India from this crime, which reflects the flaws of our patriarchal society and abusive attitudes. We want survivors to have access to fast justice and fight back the irreparable impact of this crime.

    Support Us

    Any amount you can donate to us, no matter how small, will be very gratefully received and put to good use helping acid and burns violence survivors. Your help could help pay for dressings and medical supplies for recuperating patients. A small help could help survivors with vital physical rehabilitation after an attack, including physical therapy and nursing.

    Click this link to donate for a good cause.

    Join Us

    We welcome all the volunteers to come forward and join us in our camping and contribute in whatever way possible. Please visit the Join Us page for more details.