Wednesday, 6 March 2013

Sonali

Posted by Stop Acid Attacks On Wednesday, March 06, 2013


A 27 year old girl  named Sonali  is an  inspiration to many  women all over world and very well known for her bravery.Since last ten years.every day,she fights her battle fearlessly.She is fighting a pain which she got from the society when she was just 17 year old.
That night of 22nd April 2003 of  Sonali Mukherje’s life became a sin for herself,when few guys throw acid on her face.that time she was sleeping on the terries with her family.Her mistake was that she revolt against them.

Sonali was a girl from Dhanbad.She was a bright student and was a NCC cadet and was full of dreams.Her father Chandidas Mukharjee was a security guard in a mill and suffers poor financial condition.Sonali used to work as a part time worker to support her family.During this time few goons started teasing her.Once when they crossed their limit she scolded them.They felt so offense that they throw acid on her.

Due to acid Sonali’s face get totally burnt.Doctors immideatly referred her to Bokaro from where she was sent to Delhi.After reaching Delhi she was admitted to Safdarjang Hospital.in the first three days of her treatment she went through 22 surgeries for which her father mortgaged property,house and jewellery. After hearing this news her grandfather died and mother went into dipression. For treatment of her wound her father begged in front of all the ministers but got only sympathy in return. After which her family went to women & Child Welfare for help Krishna Tirath in order to help the family went to Prime Minister’s Relief Fund but their efforts could not be translated.

During court session for the next three years in order to meet the expenses everything for her.
Year 2006,two convicts were given imprisonment of nine years while one convict was given relief as he was juvenile.

Her family is still fighting for Sonali as those two convicts were bail in 2007.In 2012 she demand for elhunier from government.

Read Shonali Ghosal's blog on Anu Mukharji in Tehelka: http://tehelka.com/acid-attack-survivor-struggles-to-make-ends-meet

हिंदी 


सोनाली 

27 साल की सोनाली जिंदादिली की मिसाल है. पिछले करीब दस साल से सोनाली हर आने वाले दिन का निडरता से मुकाबला कर रही है. वो एक ऐसे दर्द से लड़ रही है, जो उसे समाज से मिला है. वो दर्द जो उसे तब मिला था जब वो सिर्फ 17  साल की थी.

२२ अप्रैल २००३ की रात को जब सोनाली अपने पिता और बहन के साथ छत पर सो रही थी तभी कुछ लड़कों ने सोनाली के चेहरे पर तेज़ाब फ़ेंक दिया. जिससे सोनाली का चेहरा बुरी तरह जल गया था.

सोनाली झारखंड के धनबाद की रहने वाली एक सामान्य सी लड़की थी. पढने में होनहार और एनसीसी कैडेट सोनाली के कई सपने थे. सोनाली के पिता चंडीदास मुख़र्जी एक मिल में सिक्योरिटी गार्ड थे. सोनाली भी पढाई के साथ-साथ एक निजी कम्पनी में नौकरी करती थी. इस दौरान कुछ लड़के सोनाली पर छींटाकशी और छेड़कानी  करने लगे थे. जिस पर सोनाली ने उन्हें डांट दिया. ये डांट उन लोगों को इतनी नगवार गुजरी कि उन्होंने सोनाली पर तेजाब फेंकने का फैसला ले लिया.

तेज़ाब की वजह से सोनाली का चेहरा 70 फीसदी से अधिक जल गया. आँखों में तेजाब चले जाने की वजह से उसकी आँखे भी चली गयी. इलाज के लिए सोनाली को डाक्टरों ने बोकारो और फिर वहाँ से उसे इलाज के लिए दिल्ली भेज दिया. दिल्ली में आने के बाद सफदरजंग अस्पताल में सोनाली का इलाज चला. शुरवाती तीन साल तक चले महंगे इलाज में सोनाली की 22 सर्जरी हुयी, जिसके लिए पिता ने जमीन, घर, गहने सब बेंच दिए. घटना के कुछ समय बाद ही सदमे से सोनाली के दादा की मौत हो गयी और माँ भी डिप्रेशन का शिकार हो गयी.
इलाज के लिए सोनाली के परिवार ने विधायकों और सांसदों के घर के कई चक्कर काटे लेकिन आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला. जिसके बाद परिवार ने महिला और बाल कल्याण मंत्री से मदद मांगी. कृष्णा तीरथ ने परिवार की मदद के लिए प्रधानमंत्री राहत कोष से मदद की सिफारिश की, लेकिन वहाँ से भी कुछ हासिल नहीं हुआ.

खर्च सिर्फ इलाज में नहीं हुआ, बल्कि न्याय की गुहार में भी में भी परिवार ने सब कुछ गँवा दिया. कोर्ट में तीन साल तक सुनवाई चली. जिसमे सोनाली के परिवार ने बची-कुची सम्पति भी बेच डाली. साल 2006 धनबाद जिला कोर्ट में दो आरोपियों को नौ साल की सजा मिली, जबकि एक आरोपी नाबालिग होने के कारण बच गया. लेकिन 2007 में सोनाली और उसके परिवार को उस समय फिर झटका लगा, जब हाईकोर्ट से उन लड़कों को जमानत मिल गयी. लेकिन सोनाली ने बावजूद इसके सोनाली ने हिम्मत नहीं हारी है और उनकी और उनके परिवार की कानूनी लडाई अभी भी जारी है.

आज सोनाली को जिंदादिली की मिसाल कहा जाता है. लेकिन जिंदादिली की इसी मिसाल ने पिछले साल 2012 में सरकार से इच्छामृत्यु की मांग की थी. उस समय मीडिया द्वारा इस मुद्दे को गंभीरता के साथ उठाने के बाद कई हाथ सोनाली की मदद को बढे थे, जिसके बाद सोनाली ने निडरता के साथ उस दर्द को सहने में समर्थ हो पाई. लेकिन सोनाली को अभी भी मदद की दरकार है. अभी आने वाले डेढ़ साल में सोनाली की करीब नौ सर्जरी और होनी है, जिसमे करीब 30 लाख खर्च रुपये खर्च आने का अनुमान है.

Chhanv

    About Us

    SAA is a campaign against acid violence. We work as a bridge between survivors and the society, as most of the victims of this brutal crime, which is much more grave in its impact than a rape, have isolated themselves after losing their face. Due to ignorance of the government and civil society, most survivors find no hope and stay like an outcast, in solitude. SAA aims to research and track acid attack cases and compile a data to get the actual situation of survivors.

    Our Mission

    We work with partners and stakeholders towards elimination of acid and other forms of burn violence and protection of survivors' rights. The process of justice to an acid attack victim remains incomplete until she gets immediate medical, legal and economic help, along with the critical social acceptance. Our vision is to free India from this crime, which reflects the flaws of our patriarchal society and abusive attitudes. We want survivors to have access to fast justice and fight back the irreparable impact of this crime.

    Support Us

    Any amount you can donate to us, no matter how small, will be very gratefully received and put to good use helping acid and burns violence survivors. Your help could help pay for dressings and medical supplies for recuperating patients. A small help could help survivors with vital physical rehabilitation after an attack, including physical therapy and nursing.

    Click this link to donate for a good cause.

    Join Us

    We welcome all the volunteers to come forward and join us in our camping and contribute in whatever way possible. Please visit the Join Us page for more details.