Wednesday, 6 March 2013

Vinodini

Posted by Stop Acid Attacks On Wednesday, March 06, 2013



Recently in the month of February, a women named Vinodini Jayapal loss her life in a private hospital of Chennai.Last year in November she confront an acid attack.A  man had thrown the acid on  her and since then she was under treatment.
She was 23 year old when a man had thrown acid on her,only because she refused his proposal. After fighting with her life since three months at last she was defeated by  her life on 22ne February.
She was resident of Karaikal,Pondicheri and was a software engineer by profession. One of her colleague   was forcing her to do marriage with him inspite of knowing that she was not ready to do that.She was refusing her because she don’t like him.Nevertheless he was forcing her to marry her.
After that in November 2012,that man thrown acid on Vinodini by saying that if you can’t be mine then you can never be any body else.The incident took place when she was travelling in the bus near her place.The acid falls on her face and her face was totally burnt in such a way that her face was unrecognizable by her family.Almost 46% of her body was effected by that brutal activity including her face, stomach and shoulder.
During that incident the victim also throw acid on him on her defence but nothing happened to him.Vinodini’s story is really very pathetic.The shocking thing was Vinodini had alredy complained to police,first time oraly while second time in written way eventhough police hadn’t taken any step to stop this,just leave him with a strict warning.
She was from a very poor family,inspite of this she had collected few funds and money to fulfill her dreams to become an enggenier.With so much guts and dreams she finally fulfill her dream and made her family happy but after this acid attack suddenly their life get up-side-down.




हिंदी 

विनोदिनी 

हाल ही में फरवरी माह में एसिड की शिकार एक युवती ने तीन महीने तक चले इलाज के बाद चेन्नई के एक निजी अस्पताल में दम तोड़ दिया. पिछले साल नवम्बर में विनोदिनी जयापाल नाम की एक युवती पर एक युवक ने तेज़ाब फ़ेंक दिया था. जिसके बाद से बुरी तरह झुलस चुकी विनोदिनी का इलाज चल रहा था.

पांडिचेरी के कराईकल की रहने वाली पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर थी. बी टेक की पढाई पूरी करने के बाद वह चेन्नई के एक निजी फिरं में नौकरी कर रही थी. इसी दौरान सुरेश नाम का युवक उसे परेशान कर रहा था और शादी करने के लिए दबाव डाल रहा था. लेकिन विनोदिनी उससे शादी करने के लिए साफ़ इंकार कर रही थी. 

जिसके बाद नवम्बर 2012 में सुरेश नाम के व्यक्ति ने यह कहते हुए तेज़ाब फ़ेंक दिया कि अगर “तुम मेरी नहीं हो सकती तो किसी की भी नहीं हो सकती.” घटना पांडिचेरी के निकट उस समय घटी, जब विनोदिनी बस में थी. सबसे ज्यादा तेज़ाब विनोदिनी के चेहरे पर गिरा. जिससे उसका चेहरा बुरी तरह झुलस गया और उसकी आँखें चली गयी. चेहरा इतना झुलस गया था कि पहचान में नहीं आ रहा था. इसके अलावा उसके कंधे और पेट भी तेज़ाब की वजह से जल चुके थे और शरीर का 40 प्रतिशत हिस्सा तेज़ाब से खराब हो चुका था. 

तेज़ाब फेंकने के दौरान विनोदिनी ने डटकर आरोपी का सामना किया था. जब आरोपी ने उस पर तेज़ाब फेंका तो उसके जवाब में विनोदिनी ने उसे लड़ते हुए उसकी तरफ भी तेज़ाब की कुछ मात्रा फेंकी. 

गौर करने वाली बात यह है कि वह पहले भी दो बार पुलिस से उस युवक के बारे में शिकायत कर चुकी थी. जिसमे पहली बार उसने मौखिक रूप से और दूसरी बार लिखित रूप से युवक द्वारा उसको परेशान किये जाने की शिकायत की थी. लेकिन बजाय कुछ करने के पुलिस ने उस युवक को चेतावनी देकर छोड़ दिया था.

गरीब परिवार में पैदा हुयी विनोदिनी ने बड़े संघर्ष के साथ और विषम परिस्थितियों में अपनी पढ़ाई पूरी की थी. जिसके बाद जॉब करते हुए वो अपनी और अपने परिवार की जिंदगी संवार रही थी. गरीब होने के बावजूद विनोदिनी और उसके परिवार की जिंदगी खुशहाल थी. लेकिन तेज़ाब फेंकने की उस घटना के बाद से उसके और उसके परिवार की जिंदगी में मानो भूचाल आ गया. 

कुछ दिनों तक अखबार में सुर्खियाँ बनी रही, लेकिन कोई ऐसी मदद नहीं मिली जो विनोदिनी के इलाज में मदद कर पाती. धीरे-धीरे सुर्ख़ियों के साथ-साथ लोगों का रहा-सहा ध्यान भी विनोदिनी से हट गया. जिससे मदद की सारी संभावनाएं भी खत्म हो गयी. महंगा इलाज होने की वजह से परिजनों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था. 

इलाज के दौरान पांच अलग-अलग अस्पताल बदलने पड़े. जैसे-तैसे विनोदिनी के परिजन चेन्नई के एक निजी अस्पताल में उसका इलाज करवा रहे थे. लेकिन उसकी सेहत में सुधार नहीं हो पा रहा था. जिसके बाद आखिरकार तीन महीने तक दर्दनाक इलाज के बाद विनोदिनी की मौत हो गयी.



Chhanv

    About Us

    SAA is a campaign against acid violence. We work as a bridge between survivors and the society, as most of the victims of this brutal crime, which is much more grave in its impact than a rape, have isolated themselves after losing their face. Due to ignorance of the government and civil society, most survivors find no hope and stay like an outcast, in solitude. SAA aims to research and track acid attack cases and compile a data to get the actual situation of survivors.

    Our Mission

    We work with partners and stakeholders towards elimination of acid and other forms of burn violence and protection of survivors' rights. The process of justice to an acid attack victim remains incomplete until she gets immediate medical, legal and economic help, along with the critical social acceptance. Our vision is to free India from this crime, which reflects the flaws of our patriarchal society and abusive attitudes. We want survivors to have access to fast justice and fight back the irreparable impact of this crime.

    Support Us

    Any amount you can donate to us, no matter how small, will be very gratefully received and put to good use helping acid and burns violence survivors. Your help could help pay for dressings and medical supplies for recuperating patients. A small help could help survivors with vital physical rehabilitation after an attack, including physical therapy and nursing.

    Click this link to donate for a good cause.

    Join Us

    We welcome all the volunteers to come forward and join us in our camping and contribute in whatever way possible. Please visit the Join Us page for more details.